Journey As Politician

Udita Tyagi, who grew up in the Sangh-inspired family, began her political journey in 2010. Udita has a passion for serving the people as well as for living life meaningfully. And this passion is what brought her to social service and ultimatley,politics.Since she was raised in a Sangh-inspired family,Udita had sence of social service since childhood.The way sangh branches were being managed in her father's school fascinated her, and she was drawn to the ideas of the sangh itself.That was why nationalist ideas emerged in Udita's heart from childhood, which later inspired her to step into social and then political landscapes.                         

After working on a social worker since 2007 , Udita stepped on her political journey in 2010.She actively joined the BJP and then started serving the people through the party .Udita was well aware that the country was passing through its darkest chapter of corruption at that time. Ther was so much corruption at the upper level that the people were swearing, but Udita couldn't understand how and where to begin from. The day-to-day scams had alienated the people form the then Government and were looking forward to a change....looking forward to a new government. Udita chose a party that believed in moral values because she knew that the Sun everyone's hopes with a rise from the BJP. And, Udita was not wrong.

In 2013, when the Honorable Shri Narendra Damodar Das Modi was declared the Prime Ministerial candidate on behalf of the BJP, thecountry felt a wave of change. His powerful speeches and futuristic views motivated Udita to join the party and be an agent of change in the country. Udita began to participate in the party's campaign in 2013, mainly in the Bharatiya Janata Yuva Morcha's membership compaign and the Run for Unity program. Through her particpation in these programs, Udita started to understand the public, their aspiirations and their expectations. Through these programs, Udita connected herself with the public and come to know people's expectation from the BJP. Though public dialogue, she understood what people of India want.

The next year, in March 2014, when Shri Narendra Modi, who ws the Prime Ministerial candidate, had "Chai pe Charcha" six of the country's leading women, Udita was one of them.The dialogue that took place at this important event gave a lot of inputs to the upcoming publicity and say, the government that was formed in May 2014. The reaction that emerged as a result of this dialogue poved to be beneficial for all.

After that, Udita was given the responsibility to go to Banaras to campaign for Shri Narendra Modi, and she is brilliantly. In May 2014, she went to Banaras and encouraged people to vote for Modi Ji.

The next milestone in Udita's political career came after Honorable Shri Modi ji was sworn in as the Prime Minister of India in May 2014. After that, on the birthday of Shri Mahatma Gandhi,on 2nd October 2014, Modi ji took the initiative to make India clean in order to realize the dreams of Mahatma Gandhi. By taking this step, Modi ji made the general public aware of cleanliness. Udita became a part of various programs under the clean India campaign and did a lot of work to make her city clean. One of her most significant tasks under the cleanliness campaign was to convert Ghaziabad Railway Station into a museum.

She changed the look of the dity Ghaziabad railway station. On te walls of Ghaziabad Railway Station, the entire story of the first revolution of the Indian freedom struggle, i.e.,the revolution of 1857, was engraved throuh pictures. These painting were created not only by the paintersbut also by the school children using their imagimation. This combination of historical glory with cleanliness is highly commendable. The "My Clean Railway" project was carried out in eight phases. Today, Ghaziabad railway station can be counted among the most beautiful railway station in India.

Along with the tasks relating to saintation, Udita was entrusted with various responsibilities by the party from time to time, and Udita discharged every duty very efficiently. In the year 2017 before the elections, under thedirection of Hon'ble State General Secretary Shri Sunil Bansal Ji, the new voter registraion campaign was drawn up. Udita conducted its pilot campaign to ensure smooth functioning of the campaign in which she registered 68,000 new voter in five days. New voters have potential to change the fortune of any country, and that is why every party wants to keep the youth connected with it. Udita ecognized the possibility of a new India through this campaign.

After diligently fulfilling various responsibilities in the party, Udita was given the charge to manage sanitation project in western Utter Pradesh in 2018. By now the party had tested the prospects of Udita and was familiar with her dedication to cleanliness and passion. Udita proved her dedication to this role as wellas she had previously done. Displaying great leadership, Udita created the structure of the project in 19 districts and through the project connected the public not only with the party but also with the most important topic - sanitation.

Realizing Mahatma Gandhi's dream of Swachh Bharat, and BJP's dream of a lotus in every house,Udita, through this project created to 20,000 swachhagrahis who took the ownership of fulfilling the dream of Swachh Bharat and connecting the party to the people. And to realize this goal, Udita made more than 50 migrations. Currently , more than 5,000 workers are working in various positions in this project under Udita's leadership.

At the same time, in early 2019, Udita was entrusted with the task of launching a sanitation model in Shahjhanpur, the constituency of Hon'ble Suresh Khanna Ji on the lines of Ghaziabad Metropolitan City. Udita did complete justics to this project as well. As a cleanliness worker, Udita's biggest achievement is to make Ghaziabad clean and to beautify each corner of the city using a variety of paintings.

Another important task done by Udita is to paint the Hindon Elevated Road, the world's largest elevated road, in record time. In December 2017, even cold air at such a high-altitude dwarfed Udita's passion. Shepainted 20 kilometers on both side of the road, and the entire poject was complete in just 40 days and a total of 1500 people,including school children, participated. The main attraction of this project is themes like Beti Bachao, Save Environment, Madhubani Paintings, etc. This project attempted to not only promote dying arts, but every painting tries to convey some message.

Because Udita believes that art can give message and meaning to life and art can never be separated from society. For competing a humongous task in such a short period of time, Udita received a citation from the Hon. The chief minister of UP, Shri Yogi Adity Nath.

For Udita, politics is a mission. She wants to take all possible steps to bring politics from commission to mission.

Udita wants to link politics with social politics, and that is why she goes to the ground level to do every task that the party has done.

Building unpercedented coordination of politics and social politics, Udita's tagline is quite attractive. It says, "I'm the change!" This means I'm the only change and I will bring the changes."

Udita - A Swachhagrahi

Hope sustains the world, and if once a person loses faith, he loses everything. This is what Udita firmly believes in. It is said that a person steps into politics in order to gain something. Udita has stepped into politics to achieve something big – she has a purpose and a dream to follow.

By 2013, we saw an atmosphere where corruption was predominant in every aspect of life. Government employees did not feel motivated to work. For every small job, people had to sit for hours and offer bribes. But things are changing now. Udita thinks that if we must reflect the change that we want to see in the world. We need to change ourselves first if we're going to change society. Udita, trying to bring out a change in our society, is taking the Clean India movement to every nook and corner of the country.

Based on her own experiences, Udita has a dream to empower young women and a vision to teach the basics of cleanliness in today’s youth. Udita also hopes that someday political protests will end and every section of the society will participate in the mass movement initiated by the government.

It is essential to dream because they have the power to inspire us. If there are no dreams, we will not be able to progress. One such dream was seen by the entire country, to bring down the corrupt government of 2013 and to bring in Modi. Honorable Shri Narendra Modi Ji gave voice to the youth of the country. He created a dream among millions of countrymen that our dreams are safe with him. Modi ji’s historic win is the reflection of people’s trust in him.

Shri Narendra Modi acted every moment considering the trust of the people as a blessing. If the leadership is skilled, the people choose their own path. This is what happened in Shri Modi ji's government. Udita is of the view the cleanliness movement became a mass movement as soon as the government changed. Udita feels inspired by Narendra Modi in politics. One of the biggest reasons behind this was the transformation of cleanliness movement into a mass movement when the government changed.

Though Udita started her journey with a social cause, her efforts were not getting any support from the then government. Wherever she went, all she got was waiting. Her trust in the system began to wobble. This is when she got inspired by Modi ji and decided to move forward. Udita felt inspired to join politics by seeing the amount of support that was pouring in for Modi Ji from all across the country.

And as Udita’s life philosophy suggests, a person who loses hope becomes disillusioned. One should never give up hope. Narendra Modi, who rode the chariot of hope, changed both the direction and the state of politics. He ended the state of disappointment in the country. This was the time when Udita felt connected to the party's campaigns because she too had a keen desire to bring about a change in society.

When asked why did she chose BJP of all other parties in the country, Udita replied that BJP is the only party where even women who have no political background can make their place. Udita did a lot of work for the party even before she formally joined the party, and that’s when she met Anurag Thakur. Udita is also very impressed by Anurag. In fact, Modi Ji and Anurag are the two biggest factors that inspired Udita to join politics and instilled a belief that even an ordinary woman can be a part of the party. Instead of dynasticism and familyism, BJP has adopted merit. The experience of working with Prashant Kishore was an enlightening as it introduced Udita to the intricacies of Indian politics. In between, Udita kept studying several courses in the political consultancy to keep herself updated and informed.

After the change of government in 2014, the beautification project of Ghaziabad railway station gave new dimensions to Udita's identity. The successful completion of this project also instilled confidence in her that it is possible to bring about a change in the country for the betterment of all. Since Udita’s sole purpose of getting into politics was to serve the country, she wanted to fulfill her aim through this project. Udita clearly says that if someone does not wish to serve the country and countrymen, there is no need for them to get into politics. Being popular and successful in politics, and staying in others’ hearts are all different things. Good leaders are popular and stay in the hearts of the people. So, with Udita has come to achieve success in politics that passes through the hearts of the people.

At the same time, Udita dreams that every Cabinet should have a dedicated Ministry for Cleanliness. This is because the field of cleanliness allows us to work in new and innovative ways.

“We have already completed one phase of Clean India, now is the time to enter the second phase,” saying this Udita perfectly draws the blueprint of campaign’s objective. She wants to talk about the cleaning processes required for drains, sewage plants, garbage dumping grounds, road and toilets, and how schools should follow the basic protocols of Clean India campaign. In fact, Udita wants these issues to be designated to a dedicated Ministry.

Udita's dream is to talk about cleanliness to the new generation, to introduce awareness at the level of primary education. For Udita, politics is a way to bring about a transformation in the society.
 

बचपन से संघ-प्रेरित परिवार में पली बढ़ी राजनीति को सेवा का पर्याय मानने वाली उदिता त्यागी का राजनीति the potenक सफर वर्ष 2010 से आरम्भ हुआ। उदिता के अंदर जनता की सेवा के साथ ही जीवन को सार्थक रूप से जीने का जूनून है। और यही जूनून उन्हें पहले समाजसेवा और अंततरू राजनीति की तरफ लेकर आया। संघ की पृष्ठभूमि होने के नाते उदिता में समाजसेवा का भाव बचपन से ही था. पिताजी के विद्यालय में संघ की शाखाओं का संचालन उन्हें आकर्षित करता था और वह संघ के विचारों के प्रति स्वयं ही आकर्षित हो गईं. यही कारण था कि बचपन से ही राष्ट्रवादी विचारों का उदय उदिता के ह्रदय में हो गया. संभवतया यही कारण था जिसने उन्हें पहले सामाजिक और फिर राजनीतिक परिद्रश्य में कदम रखने के लिए प्रेरित किया.  वर्ष 2007 से लगातार सामाजिक रूप से कार्य करने के बाद उदिता ने वर्ष 2010 में अपने राजनीतिक सफर पर पैर रखा। 

उन्होंने भाजपा की सक्रिय रूप से सदस्यता ली और उसके बाद पार्टी के माध्यम से जनता की सेवा में जुट गईं! उदिता को भली भांति ज्ञात था कि देश उस समय भ्रष्टाचार के अपने सबसे काले अध्याय से होकर गुजर रहा था। ऊपरी स्तर पर इतने भ्रष्टाचार हो चुके थे कि जनता कसमसा रही थी, परन्तु उसे समझ नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए? रोज होते घोटालों ने जनता को तत्कालीन सरकार से विमुख कर दिया था और वह एक परिवर्तन की आस में थी। एक नए नेतृत्व की आस में थी। उदिता ने मूल्यों की राजनीति करने वाली पार्टी को चुना क्योंकि उदिता को लग रहा था कि उम्मीदों के इस सूर्य का उदय इसी पार्टी से होगा। और उदिता का यह सोचना गलत नहीं था। वर्ष 2013 में आदरणीय श्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी को भारतीय जनता पार्टी की तरफ से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया तो देश को एक परिवर्तन की लहर का आभास हुआ।

 उनके ओजस्वी भाषणों एवं भविष्यपरक दृष्टि से उदिता भी इस देश के बदलाव के साथ आईं। वर्ष 2013 से उदिता ने पार्टी के प्रचार कार्यक्रमों में हिस्सा लेना आरम्भ किया, जिसमें मुख्य थे भारतीय जनता युवा मोर्चा का सदस्यता अभियान, भारतीय जनता का पार्टी का रन फॉर यूनिटी प्रोग्राम। उन्होंने इन कार्यक्रमों में अपनी प्रतिभागिता के माध्यम से जनता को, जन आकांक्षाओं को और जनता की उम्मीदों को जाना! उदिता ने इन कार्यक्रमों के माध्यम से जनता को अपने साथ जोड़ा और पार्टी के प्रति जनता की उम्मीदों को भी जाना। जनसंवाद के माध्यम से उन्होंने भारत क्या चाहता है यह जाना।

अगले ही वर्ष मार्च 2014 में जब प्रधानमंत्री पद के उमीदवार रहे माननीय श्री नरेंद्र मोदी ने देश की प्रमुख 6 महिलाओं के साथ चाय पर चर्चा की, उनमें से उदिता भी एक थीं। इस महत्वपूर्ण आयोजन में जो संवाद हुए, उसने आगे आने वाले प्रचार एवं या कहें मई 2014 में बनने वाली सरकार को भी काफी इनपुट दिए! इस संवाद से उपजी प्रतिक्रियाएं सभी के लिए लाभप्रद साबित हुईं। 

इसके उपरान्त उदिता को बनारस जाकर श्री नरेंद्रमोदी जी के लिए प्रचार का जिम्मा मिला, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया। मई 2014 में उन्होंने बनारस जाकर घर घर मोदी जी के लिए वोट मांगे। 

उदिता के राजनीतिक जीवन में नया मुकाम आदरणीय श्री मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद आया। मई 2014 में आदरणीय श्री नरेंद्र मोदी ने भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। उसके उपरांत श्री महात्मा गांधी के जन्मदिवस, 2 अक्टूबर 2014 को उन्होंने महात्मा गांधी के सपने को साकार करने के लिए भारत को स्वच्छ बनाने का कदम उठाया। और आम जनता को सफाई के प्रति जागरूक करने का कार्य किया। इस अभियान के अंतर्गत चले गए विभिन्न अभियानों का उदिता हिस्सा बनीं और अपने शहर को स्वच्छ बनाने के लिए उन्होंने कई कार्य किये। सरकार के साथ कदम उठाया। उनका सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण कार्य था गाजियाबाद रेलवे स्टेशन को स्वच्छता अभियान के अंतर्गत एक म्यूजियम में बदलने का कार्य |

इस कार्य में उन्होंने गंदे पड़े गाजियाबाद रेलवे स्टेशन की सूरत ही बदल डाली। गाजियाबाद रेलवे स्टेशन की दीवारों पर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की पहली क्रान्ति अर्थात 1857 की क्रान्ति की पूरी कहानी चित्रों के माध्यम से उकेरी। इन चित्रों को न केवल चित्रकारों ने बल्कि स्कूल के बच्चों ने भी अपनी कल्पना शीलता का प्रयोग करते हुए बनाया। स्वच्छता के संग अपने ऐतिहासिक गौरव का यह मेल सहज ही सराहनीय है। माई रेलवे प्रोजेक्ट आठ चरणों में किया गया। आज गाजियाबाद का रेलवे स्टेशन भारत के सबसे सुन्दर रेलवे स्टेशनों में गिना जा सकता है।

स्वच्छता से सम्बंधित कार्यों के साथ ही उदिता को पार्टी द्वारा विविध दायित्व समय समय पर सौंपे गए और जिनका निर्वहन उदिता ने बहुत ही कुशलता से किया। चुनाव से पूर्व वर्ष 2017 में माननीय संगठन मंत्री श्री सुनील बंसल जी के निर्देशन में नवीन मतदाता पंजीकरण अभियान की रूपरेखा तैयार की गयी और अभियान को सुचारू रूपसे चलाने के लिए उदिता ने उसके पायलट अभियान का संचालन किया जिसमें उन्होंने पांच दिनों में 68,000 नए मतदाताओं का पंजीकरण किया। नए मतदाता किसी भी देश की किस्मत बदलने की क्षमता रखते हैं और यही कारण है कि हर पार्टी युवाओं को अपने साथ जोड़े रखना चाहती है। उदिता ने नए भारत की संभावनाओं को इस अभियान के माध्यम से पहचाना।

पार्टी में विभिन्न कार्यों को करने के उपरान्त उदिता को वर्ष 2018 में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में स्वच्छता अभियान प्रकल्प के क्षेत्रीय संयोजन का उत्तरदायित्व मिला। अब तक पार्टी उदिता की संभावनाओं को परख चुकी थी और स्वच्छता के प्रति उनके समर्पण और जूनून से भी परिचित हो चुकी थी। उदिता ने पार्टी द्वारा दी गयी इस भूमिका में भी अपने उसी समर्पण का परिचय दिया, जैसा वह पहले दे चुकी थीं। अपनी नेतृत्वशीलता का परिचय देते हुए उदिता ने 19 जिलों में प्रकल्प का ढांचा खड़ा कर दिया और प्रकल्प के माध्यम से जनता को न केवल पार्टी से बल्कि सबसे महत्वपूर्ण विषय स्वच्छता से जोड़ा |

महात्मा गांधी जी के स्वच्छ भारत के सपने और अपनी पार्टी के हर घर कमल के स्वप्न को साकार करते हुए उदिता ने इस प्रकल्प के माध्यम से 20,000 के करीब स्वच्छाग्रही बनाए जिन्होनें स्वच्छ भारत के सपने को पूरा करने के साथ ही पार्टी को लोगों तक पहुँचाने का बीड़ा उठाया। और इस उपलब्धि को प्राप्त करने के लिए उदिता ने 50 से अधिक प्रवास किए। इस प्रकल्प में वर्तमान में उदिता के नेतृत्व में 5,000 से अधिक कार्यकर्ता विभिन्न पदों पर कार्य कर रहे हैं |

इसीके साथ वर्ष 2019 के आरम्भ में उदितात्यागी को गाजियाबाद महानगर की तर्ज पर माननीय सुरेश खन्ना जी के निर्वाचन क्षेत्र शाहजहांपुर में स्वच्छता मॉडल आरम्भ करने का कार्य सौंपा गया. जिसे उन्होंने बखूबी पूर्ण किया | स्वच्छ कर्मी होने के नाते उदिता की सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि है गाजियाबाद को स्वच्छ बनाना और उसके कोने कोने को  कई तरह के चित्रों के माध्यम से सुन्दर करना। 

उदिता द्वारा किया गया एक और महत्वपूर्ण कार्य है हिंडन एलिवेटेड रोड, जो दुनिया की सबसे बड़ी एलिवेटेड रोड है उसे रिकॉर्ड समय में पेंट करना। दिसंबर 2017 में इतनी ऊंचाई पर ठंडी हवा के थपेड़े भी उदिता के जूनून के सामने बौने हो गए। इसमें उन्होंने सड़क के दोनों ओर 20 किलोमीटर की पेंटिंग की। इसे मात्र 40 दिनों में पूर्ण किया गया और इसमें स्कूली बच्चों सहित कुल 1500 लोगों ने भाग लिया। इस का मुख्य आकर्षण है इसके विषय जैसे बेटी बचाओ, पर्यावरण संबंधी, मधुबनी पेंटिंग आदि। न केवल लुप्त होती कलाओं को इस सड़क पर चित्रित किया बल्कि हर पेंटिंग के माध्यम से कुछ न कुछ सन्देश देने का प्रयास किया गया है।

 क्योंकि उदिता का मानना है कि कला ही है जो जीवन को कुछ सन्देश और सार्थक दे सकती है और कला कभी समाज से पृथक नहीं हो सकती। इस असंभव से कार्य को इतने कम समय में इतनी कुशलता से पूर्ण करने के लिए उदिता को माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी जी से प्रशस्ति पत्र भी प्राप्त हुआ। 

उदिता के लिए राजनीति एक मिशन है, वह राजनीति को कमीशन से मिशन की तरफ लाने के लिए हर सम्भव कदम उठाना चाहती हैं। उदिता राजनीति को समाजनीति के साथ जोड़ना चाहती हैं और यही कारण हैं कि पार्टी द्वारा किए गए हर कार्य को वह जनता के साथ जमीन पर जाकर पूरा करती हैं।

राजनीति और समाजनीति के अभूतपूर्व समन्वय को साथ लेकर चलने वाली उदिता की टैगलाइन ही स्वयं आकर्षक है, वह कहती हैं “आई एम द चेंज! यानि मैं ही बदलाव हूँ! मैं ही बदलाव लाऊंगी”

उदीता एक स्वच्छाग्रही
 
दुनिया में सारी चीजें उम्मीद से चलती हैं, जिस व्यक्ति के जीवन से उम्मीदें चली जाती हैं उस व्यक्ति के जीवन से सब कुछ चला जाता हैं। यहीं सोचना हैं उदिता का, कहते हैं कि राजनीति में व्यक्ति कुछ लाभ के लिए कदम रखता हैं, इस विषय में उदिता का स्पष्ट मानना हैं कि वह राजनीति में कुछ करने आई हैं और वह भी एक स्वप्न और उद्देश्य के अन्तर्गत। उनका कहना हैं कि यह तो मानना ही होगा कि 2013 तक आते-आते हम एक ऐसे माहौल को देख रहे थे जहां पर भष्टाचार ही भष्टाचार था। लोगों का काम करने का मन नहीं होता था। हर छोटे से छोटे कामों के लिए लोगों को घंटों घंटों बैठ कर रिश्वत देकर काम कराना पड़ता था पर अब ऐसा नहीं हैं। उदिता को यह लगता है कि यदि आपको समाज में बदलाव लाना हैं तो आपको खुद को बदलना होगा। सफाई के प्रति समर्पित उदिता इस बदलाव का हिस्सा बनकर स्वच्छता आंदोलन को देश के कोने कोने में पहुंचाना चाहती हैं। उदिता त्यागी का अपने अनुभवों के आधार पर यह कहना हैं कि युवा महिलाओं व सफाई को लेकर एक स्वप्न हैं, एक विजन हैं और इस बात की पूरी उम्मीद हैं कि एक न एक दिन अवश्य ही राजनीतिक विरोध बंद होंगे व इस सरकार द्वारा आरंभ किए गए जनांदोलनों में हर वर्ग की सहभागिता होगी।
 
सपने हर इंसान को देखने चाहिए क्योंकि यदि सपने न हों तो आप एक कदम भी नहीं चल सकते और एक सपना पूरे देशवासियो ने देखा, कि 2013 की महा भ्रष्ट सरकार को उखाड़ फेंकना है और मोदी को लाना है। माननीय श्री नरेन्द्र मोदी ने देश के युवाओं को आवाज दी। उन्होनें करोड़ों देशवासियों के अन्दर यह सपना जगाया कि हम सबके सपने उनके पास सुरक्षित हैं। इसी भरोसे के बल पर उन्होनें श्री नरेन्द्र मोदी को बहुमत दिया। श्री नरेन्द्र मोदी जी ने भी जनता के इस विश्वास को आर्शीवाद समझते हुए हर क्षण कार्य किया। नेतृत्व यदि कुशल हो तो जनता स्वयं ही अपना मार्ग चुन लेती है। ऐसा ही श्री मोदी जी की की सरकार में हुआ, उदिता का मानना है कि सरकार के बदलते ही किस प्रकार स्वच्छता आंन्दोलन एक जनांदोलन बन गया। उदिता राजनीति मे श्री नरेन्द्र मोदी से सबसे अधिक प्रभावित हैं। इसे पीछे का कारण कहीं न कहीं सरकार के बदलते ही स्वच्छता आंदोलन का जन आंदोलन बन जाना हैं। उदिता ने चूंकि अपनी यात्रा एक समाजिक कार्य से आरंभ की थी, परन्तु उनके इस सामाजिक आंदोलन में शासन से सहयोग नहीं प्राप्त हो रहा था। वह जहां-जहां जाती, उन्हे प्रतीक्षा के सिवा कुछ न मिलता। अतः उनका भरोसा व्यवस्था से टूटने लगा। एसे में उन्होनें भी मोदी जी से प्रभावित होकर आगे बढ़ने का विचार किया। वह कहती हैं कि जिस प्रकार मोदी जी को उन दिनों समर्थन मिल रहा था, उसने उन्हें राजनीति की तरफ प्रेरित किया।

 और जैसा उनके जीवन का दर्शन है कि जिस व्यक्ति के जीवन से उम्मीद चली जाती हैं वह एकदम बेकार हो जाता हैं, अतः व्यक्ति के जीवन में उम्मीद बनी रहनी चाहिए। उम्मीदों के रथ पर सवार होकर आए नरेन्द्र मोदी ने राजनीति की दिशा और दशा दोनो ही बदल दीं। उन्होनें देश के माहौल में निराशा को समाप्त किया, यही समय था जब उदिता पार्टी के अभियान से जुड़ी क्योंकि उदिता में भी समाज में बदलाव लाने की उत्कृष्ट  इच्छा थी।

 ‘‘ भाजपा हीं क्यों ‘‘ के विषय में उदिता का स्पष्ट मानना हैं कि भाजपा ही एक मात्र ऐसी पार्टी हैं जहां पर ऐसी महिलाएं भी अपना स्थान बना सकती हैं, जिनकी कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि नहीं हैं। पार्टी के साथऔपचारिक रूप से जुड़ने से पहले भी उदिता ने पार्टी के लिए कई काम किये और इसी सिलसिले में वह अनुराग ठाकुर से मिलीं। उदिता अनुराग ठाकुर से भी बहुत प्रभावित हैं, राजनीति में आने के लिए यहीं दो व्यक्ति सबसे बड़े कारक रहे, जिन्होंने उदिता के मन में यह विश्वास जगाया कि आम महिला भी पार्टी में आ सकती हैं। वंशवाद, परिवारवाद से इतर भाजपा नें योग्यता को अपनाया हैं। प्रशांत किशोर के साथ जुड़कर काम करने का अनुभव भी उनके लिए एक प्रंरक तत्व रहा, जिसने राजनीति की बारिकियों को उन्हें समझाया। पॉलिटिकल कंसल्टेन्सी के कई पाठ्यक्रम भी उदिता ने पूरे किये, उन्होंने पढ़ाई की।

 वर्ष 2014 में सरकार बदलने के बाद गाजियाबाद रेलवे स्टेशन के सौन्दर्यीकरण के प्रोजेक्ट ने उदिता की पहचान को नए आयाम दिये और यह भरोसा जगाया कि हां देश बदल सकता है और बदलेगा। चंूकि राजनीति में आने का उद्देश्य उदिता का मात्र देश के प्रति सेवा भाव था तो उन्होनें भी इसी प्रोजेक्ट के माध्यम से अपने सपने को पूरा करना चाहा। उदिता साफ कहती है कि यदि राजनीति में आने का आपका उद्देश्य देश व मानव सेवा नहीं हैं जो कृपया राजनीति में न आएं। राजनीति में लोकप्रिय होना, सफल होना तथा दिल में होना तीनों अलग-अलग बातें हैं। अच्छे नेता लोकप्रिय व जनता के दिल में होते हैं। तो राजनीति में उदिता सफल होने के साथ-साथ ऐसी सफलता प्राप्त करने आई हैं, जिसका रास्ता जनता के दिल से होकर गुजरता हैं।

 इसके साथ ही उदिता का यह भी सपना है कि हर कैबिनेट में स्वच्छता का मंत्रालय होना चाहिए क्योंकि सफाई के क्षेत्र में हम नए और इन्नोवेटिव तरीके से काम कर सकते हैं।

क्लीन इंड़िया का एक चरण हम पूरा कर चुके हैं, अब समय हैं दूसरे चरण में प्रवेश करने का, ऐसा कहते हुए उदिता पूरी तरह से अपने उद्देश्य का खाका खींचती हैं। वह चाहती हैं कि नालों पर बात हो, सीवेज प्लांट पर बात हो,कचड़ा ड्ेपिंग ग्राउंड पर बात हो। सफाई पर बात हो कि कैसे सड़के साफ हो, टांयलेट साफ हो, कैसे स्कूलों का प्रोटोकांल हो, यह सब एक अलग मंत्रालय में हो।

 उदिता का सपना है कि नई पीढ़ी सफाई पर बात करें, जागरूकता को पढाई के स्तर पर लागू किया जाए। राजनीति उदिता के लिए एक बदलाव का माध्यम हैं।